आबा केर हाजरी केर दिन
एकगो लेमचूस में खुशी
मंगर केर बजार से
आयो केर दौरा केर
मुढ़ी और लडू में हसीं।

ऐसान रहे जीवन

गुंडरी और पंडकी लेखे मन,
गुल्हेर केर गोली नियार सोच,
माटी केर घर आंगन और गांव आखड़ा
रीझ रंग में धुरधुरा नाच ।

मोरान हेजान में सोब केर कांध
सोब केर लोर से बनत रहे कबुर ।

भाई और बहिन आधा कोरी,
तेउले बपाक खेतक
सोभे खास ढेला रहैं ।
पासले  पासाए जात रहैं
मिसले गोबर से मिल जात रहैं।

केकर खेत, केकर बीज
सोबकर हांत, सोबकर हार जुएंठ,
सोबक हांत, सोबक हंसुआ,
खरियान धन से भरल
दिल मोरा केर बेइंध लेखे जोराल।

एगो घर में घाटी रहले भी
नी घट्त रहे खुसी
गांव जे रहे रखेक ले जीऊ
जीव, जानवर, गाछ पताई।
केऊ अलग नी रहैं।

जेकर आंगना नि रहे, सेकर आखड़ा रहे।