ई का होई गेलाक मोर गाँव के?
कहाँ चइल गेलाक,
कोनो नि बताएके
कोनो चिन्हा नि छोईड़ के।
सुनसान छाँवहुर, सुनसान अखड़ा
सोब दुरा ढपल, अंगना नखे बढ़नाल।
बहरे केर चूल्हा में आधा पोड़ाल लुठी,
गरु गोहर खाली, छेगरी गुदरी खोलल,
मुर्गीगुड़ा तो सुनसान माड़ा।
का होलक मोर गाँव के?

कबूर केर कच्चा माट्टी उपरे उईठ जाएहे
चाओंरा में हरगाड़ी नही, खेत में ढेला नही
कुवां केर बाल्टी और पाघा भुलाल,
पोखरा नदीघाट भराल लेकिन आदमी आँटल ।
फागुन केर फूल तो फूलाल
लेकिन कहाँ गेलाक रंग
हरा, हरदियार और लाल?
महुआ गिरल पटरा
टोकरी टोकरी गारूबछरु बिछाथाएँ,
खाली आहे छाइन केर सुप और डाहरा,
बारी झारी टूटल, भांग भांग टटरा।

भाईग गेलाक की मोर गाँव
घरनि जैसन रुसिया भागेल।
लेकिन मोर गांव केर नेइहांर कहाँ,
कहाँ जाबों लेइ लानेले उके?
की ढुकु भाईग गेलाक मोर गाँव,
गांव केर छोणी सहर केर छोडाँ ठान?
की ढापाए जाय हे मोर गाँव,
महामारी केर डरहे?

हेइज जाए हे मोर गाँव ।