तिरंगा आइज खुइलके लहराथे,
मोर छाती  एकदम फुलाल,
हांथ सलामी ले उठाल,
कदम ताल लगिन गोड़ मोर तैयार,
का अगस्त, का जनवरी
मोंय तो मोर माँट्टी ले सालों साल चढ़ाल ।

हिंयाँ केर माँट्टी तो मोय हेकों,
मोरे लहू से हरा और मेहनत से भरपुर ।
मोए आदिवासी, अपन ईज्ज्त के लुटेक नि देलों,
तीर से, तलवर से, अपन साह्स से जीत घुरालों,
मोर खेत, जंगल, मैदन, हवा, तेईरगन, चान्द और बेर,
गेल्लाक सतर साल तक सोबके बाँट्लों ।

आईज देखोना तिरंगा के,
खोजोना आदिवासी लोहू के
उ केसर, सादा और हरा रंग में ।
केउ तो उके कईच के उजार कराथे,
मोर वीरता केर रंग के मेट्टाएक केर कोशीस कराथे,
मोके डुबाएक खोजाथे समय केर चुंवाँ में ।

इतिहास तो मोंके कोसो दूर छोइड़ देइहे,
बिरसा, तेलेंगा, सिधु, कन्हों और सोब मोर वीर
केर तीर केर धार के बोथो बताहे,
मोर आंदोलन केर बखिन केर तसविर के चिर देइ हे,
मोर कहानी न तो कोनों कागज केर खाँड़ा में,
न हें कोनो नेता, मंत्री केर भाषण में ।

मोर आजादी केर कहानी कहाँ गेल्लाक?
स्कूल केर किताब मे तो नखे,
सिनेमा केर पर्दा में तो नखे ।
का इ मोर आजादी न लगे?
काने गेलाक मोर इतिहास, आजादी केर?
का बतामु मोर बेटी के? का सुनामु मोर बेटा के ?

मेटेक नि देमु इतिहास के, लुकेक नि देमु मोर कहानी के,
माट्टी में लिखल, लहू में समाल,
मोर आज़ादी केर सियाही नि मेटी,
लहू से रंगीन बनाय देमु मोंए कागज के,
जान लेइके हों और जान देइके हों
बनाए लेमु मोंए किताब मोर आजादी केर ।