छुट्टी मन्नाएक जाओना मोंए गाँव,
जेठ केर महीना, द्श्रा केर बर्षा
नि भूलावना मोंए, जाड़ केर जलसा।
जब कभी आयो केर आंचरा केर सुख याद आवेला,
आबा केर जोश और जवानी याद आवेला,
चइल जावना, खोजेक ले ओहे गाछ, ओहे छाँव्।

सोब मोके ओगेइर रहेना,
उ माटी केर घार, उ लिपाल आंगना,
केजन का आहे, सोब कुछ भरपूर लगेल,
याद आए जाएला लोरलोरो डांड़ा मे सुपटी से सिमटाल,
पछेबाटे दुईयो खरपाट उपरे फाट्ल पैंट,
गेंदा ठेंगा, गुल्हइर केर थाईला, मोर पोसाल सुगा और मैंना।

ऊ करिया सिलेट
जेके आयो सुकवार बाजार से कीनरहे,
ऊ फुलवाला झोला जे दीदी बनाए देइ रहे,
मोर ढेला से खलियाल गोड़ कैसन कुदात रहे,
दोहर पार केर धोती मास्टर केर तेतेइर सोंटी से
क ख ग घ सिखेक ले।

सोचोन, के जन का लेखे बेटा रहों मोएन,
माए के,कातेई प्यार करत रहों,
बाबा केर कोन बात के मानत रहों?
पता चलेल आइज, बाड़ होए जा हों मोंए,
समझ मे आवेल, बहुत आगे निकेल जाए हों,
सौ कोसदुर, छोईड़ के घार और आंगना ।

जहिया आवोना, हिंयें रहि जाएक ले मन करेला
आउर एक बेर काँच केर गोटी केर दुरी के
बिता बिता नापेक ले मन करेला।
आबा केर पोखरा में फुईट खेलेक ले,
बार गाछ केर निच्चे पिटूल खेलेक ले,
सोमरी और बुधनी सन्गे कित कित खेलेक ले, मन करेला ।

सांग खोजते बुलते छूट्टी सिराए जाएला,
लुईयु, सियू सोब तो बाड़ होई जाए हैं,
आनी, सुनी तो शादी होई गेलांए।
सोचोन, मोर बेटा संगे हे खेइल लेमु, सोब खेल के।
लेकिन कैसेन? बेटा तो छुट्टी सुरु से
पुछेक लगेल –“पापा हम अपना घर कब जाएंगे?”
का लेखे बाताबों कि, तोर आबा केर घर तो एहे हेके।